Mukhymantri Krishi Ashirwad Yojana 2022

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के बारे में सभी जानकारी देंगे।
मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना होता क्या है।
मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना को क्यों शुरू किया गया। इस योजना से किसानों को क्या सब लाभ मिलता है। इस योजना से संबंधित सभी प्रकार सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए इस पोस्ट को पूरा अंत तक पढ़े हैं।

Mukhymantri Krishi Ashirwad Yojana होता क्या है?

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखंड के सरकार के द्वारा शुरू किया गया। झारखंड के सरकार ने राज्य के सभी किसानों के लिए इस योजना की शुरुआत की है। इस योजना की शुरुआत झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास जी के द्वारा किया गया था।
इस योजना के अंतर्गत सरकार के द्वारा सभी किसानों को प्रोत्साहन राशि 5000 रुपए प्रति एकड़ दी जाएगी। यह राशि वैसे किसान को ही दिया जाएगा , जिनके पास 5 एकड़ या फिर इससे कम जमीन हैं। राज्य सरकार इस योजना के माध्यम से किसानों को आर्थिक सहायता राशि देगी। योजना का लाभ लेने के लिए सबसे पहले आपको आवेदन करना होगा।

हर साल इस योजना का लाभ दिया जाता है। जो किसान भाई इस योजना के अंतर्गत आवेदन किए हैं और उनके पात्रता के अनुसार राज्य सरकार के द्वारा Mukhymantri Krishi Ashirwad Yojana का लिस्ट जारी कर दिया गया हैं। आप इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर अपना लिस्ट देख सकते हैं।

Mukhymantri Krishi Ashirwad Yojana

झारखंड कृषि आशीर्वाद योजना का उद्देश्य क्या है?

किसानों के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार बहुत योजनाएं चलाती है जिससे कि उनको आर्थिक सहायता मिल सके, और वह अपना सारा ध्यान कृषि पर लगा सके।
झारखंड के सरकार का भी यही उद्देश्य है कि उनके राज्य के किसानों के पास जितनी भी जमीन है कृषि योग्य है उसमें वह अच्छे से खेती करें और उन्हें खेती में कोई भी तकलीफ और परेशानी ना हो।
छोटे और बड़े सीमांत के किसानों के लिए खरीफ की फसल के लिए राज्य सरकार ने 5 एकड़ पर 5000 की राशि देगी। किसानों को खेती करने में किसी प्रकार की कोई भी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े और वह अपना पूरा ध्यान कृषि पर लगा सके। जिससे कि अच्छा फसल हो।

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना से क्या लाभ मिलता है?

  •  किसानों को इस योजना के अंतर्गत हर साल लाभ दिया जाता है।
  •  मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना में आप खरीफ फसल के लिए आवेदन कर सकते है।
  •  इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगी।
  •  इस योजना के अंतर्गत मिलने वाली आर्थिक सहयोग राशि किसानों के सीधे बैंक में ट्रांसफर किया जाता है।
  •  झारखंड सरकार इस योजना के माध्यम से किसानों की आमदनी बढ़ाने की कोशिश कर रही है। और उनकी आय दोगुनी हो और इसे किसान भाई अपनी खेती भी जारी रखें।
  •  झारखंड के सभी किसान इस योजना का आवेदन अब आसानी से ऑनलाइन ही कर सकते हैं।
  •  इस योजना का लाभ झारखंड के छोटे और सीमांत किसान ले सकते है।
  •  राज्य सरकार ने Mukhymantri Krishi Ashirwad Yojana 2022 के लिए 2250 करोड़ का बजट पास किए हैं।

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना से मिलने वाली राशि का उपयोग कहां कहां किया जाता है?

  1. कृषि संबंधित यंत्र को खरीदना
  2. बीज खरीदना
  3. उर्वरकों को खरीदना
  4. कृषि के लिए भूमि की तैयारी

Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana का ऑनलाइन लिस्ट कैसे देखा जाता है ?

  •  online list देखने के लिए आपको सबसे पहले मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के अधिकारी वेबसाइट पर जाना है।
  •  उसके बाद होम पेज खुल कर आएगा।
  •  आपको होम पेज पर सर्च का ऑप्शन मिलेगा। उसमे beneficiary farmer पर क्लिक करना है।
  •  उसके बाद आपके सामने नेक्स्ट पेज आ जायेगा।
  •  उसके बाद उस लिस्ट फॉर्म में जो भी जानकारी पूछी गई है सब अच्छे से भरना है, जैसे aadhaar number, account number, select district name
  •  सभी जानकारी भरने के बाद सर्च के बटन पर क्लिक करना है।
  •  उसके बाद आपके सामने मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लिस्ट खुलकर आ जाएगा। और आप आसानी से देख सकते है।

मुख्य्मंत्री कृषि आर्शीवाद योजना का रजिस्ट्रेशन कैसे होता है?

अगर आप मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का ऑनलाइन आवेदन करने का सोच रहे हैं तो आपको बता दे कि अभी मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का अभी ऑनलाइन आवेदन करने की कोई भी प्रक्रिया नहीं है। सरकार मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के आवेदन फॉर्म के लिए ग्राम पंचायत के स्तर पर स्वीकृति दिए हैं इसीलिए इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर केवल बेनिफिट स्टेटस चेक करने का ही लिंक है।
इसलिए Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana का ऑनलाइन आवेदन करने की जरूरत नहीं है।

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना आवेदन की स्थिति ऑनलाइन कैसे चेक किया जाता है?

  1.  सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है।
  2.  उसके बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा। होम पेज पर आवेदन की स्थित देखे के लिंक पर क्लिक करें।
  3.  उसके बाद नेक्स्ट पेज पर आवेदन का फॉर्म खुल जाएगा। उसमें जो भी जानकारी पूछी गई है सब अच्छे से भरे और सर्च पर क्लिक करना है।
  4.  उसके बाद आवेदन से सम्बन्धित सभी जानकारी आपके सामने आ जाएगा।

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लॉगिन कैसे करे?

  •  सब से पहले इसके अधिकारी वेबसाइट पर जाना है।
  •  और उसके बाद होम पेज खुल कर आ जाएगा। होम पेज पर लॉगिन पर क्लिक करना है।
  •  उसके बाद login form खुल कर आएगा।
  •  लॉगिन फॉर्म में जो भी जानकारी पूछी गई है सब अच्छे से भरना है। जैसे जिला, अचल, उपयोगता का नाम भरना है।
  •  सभी जानकारी भरने के बाद प्रवेश करे के बटन पर क्लिक करना है।
  •  और फिर इसी प्रकार से आसानी से आपका मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लॉगिन हो जाएगा।

Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana का मोबाइल ऐप डाउनलोड कैसे करें?

  1.  सब से पहले आपको अपने फोन में गूगल प्ले स्टोर ओपन करना है।
  2.  उसके बाद सर्च बॉक्स में जाकर आप को मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद एप टाइप करना है।
  3.  उसके बाद next पेज पर app खुल कर आएगा। और उसके बाद इंस्टॉल पर क्लिक करना है।

हम रोजाना ऐसे ही जानकारी Newindiascheme.com के द्वारा आपके लिए लाते रहेंगे। इसके लिए हमारे website को follow करे, ताकि हमारे द्वारा new updates आपको सबसे पहले मिले । 

Thank you for reading this post…

Posted by – Rohit kumar

Also Read This

FAQ

झारखंड कृषि आशीर्वाद योजना का उद्देश्य क्या है?

किसानों के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार बहुत योजनाएं चलाती है जिससे कि उनको आर्थिक सहायता मिल सके, और वह अपना सारा ध्यान कृषि पर लगा सके।
झारखंड के सरकार का भी यही उद्देश्य है कि उनके राज्य के किसानों के पास जितनी भी जमीन है कृषि योग्य है उसमें वह अच्छे से खेती करें और उन्हें खेती में कोई भी तकलीफ और परेशानी ना हो।
छोटे और बड़े सीमांत के किसानों के लिए खरीफ की फसल के लिए राज्य सरकार ने 5 एकड़ पर 5000 की राशि देगी। किसानों को खेती करने में किसी प्रकार की कोई भी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े और वह अपना पूरा ध्यान कृषि पर लगा सके। जिससे कि अच्छा फसल हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.