UPSC exam क्या है? कितनी बार exam दे सकते हैं? IAS, IPS एवं IRS का रुतबा और पावर | UPSC exam Syllabus

UPSC का ful form – Union public service commission होता है। UPSC का हिंदी ‘संघ लोक सेवा आयोग’ होता है। upsc syllabus
यह नेशनल लेवल का एग्जाम है, अर्थात यह एक राष्ट्रव्यापी प्रतियोगिता परीक्षा है। जिनमें सिविल सर्विसेज (Civil Servises) का भी एग्जाम होता है। Civil Servises का एग्जाम पास करके आप आईएस या IPS बन सकते हैं। UPSC का हेड क्वार्टर न्यू दिल्ली में है। यह एग्जाम हर साल होता है।

UPSC एग्जाम का फॉर्म ऑनलाइन अप्लाई होता है, इसक एग्जाम फॉर्म की कीमत ₹100 के अंतराल में ही रहता है। UPSC का फॉर्म अप्लाई करने के 4 या 5 महीने बाद UPSC का एग्जाम होता है। UPSC एग्जाम का फॉर्म ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए यहाँ click करे।

कौन-कौन UPSC का एग्जाम दे सकते हैं ?

 इस एक्जाम में बैठने के लिए आपकी उम्र 21 साल से 32 (OBC- 35, SC, ST- 37 साल तक) साल के बीच होनी चाहिए।
UPSC एग्जाम देने के लिए कम से कम ग्रेजुएशन पास होनी चाहिए।

UPSC का exam कितनी बार दे सकते हैं?

UPSC का एग्जाम सभी को हर साल देने की अनुमति नहीं है।
जनरल कैटेगरी वाले 6 बार एग्जाम दे सकते हैं,
ओबीसी कैटेगरी वाले 9 बार,
तथा sc-st कैटेगरी वाले एज लिमिट तक दे सकते हैं।
अगर आप UPSC एग्जाम का फॉर्म भर चुके हैं और किसी कारण से उस एग्जाम को नहीं दे पाए तो यह आप के चांस में गिनती नहीं होगी।

UPSC exam process | UPSC एग्जाम के चरण 

UPSC का एग्जाम तीन चरण में होता है। पहले प्रारंभिक परीक्षा अर्थात प्रीलिम्स पास (Prelinimary) पास करना होता है उसके बाद मेंस Mains का परीक्षा पास करना होता है और उसके बाद आप जाते हैं इंटरव्यू(Personality test) में, अगर इंटरव्यू अच्छा रहा तब जाकर आपका सिलेक्शन होता है।

जब मेरिट लिस्ट तैयार होती है तो वह चरण 2 और चरण 3 के आधार पर तैयार होती है अर्थात मेरिट लिस्ट तैयार करने में मेंस एग्जाम और इंटरव्यू का अंक जोड़ा जाता है। फाइनल मेरिट लिस्ट तैयार होती है तब प्रथम चरण का अंक नहीं जोड़ा जाता है।

upsc syllabus

UPSC exam Syllabus

UPSC exam 400 अंक का परीक्षा होता है इसमें 2 पेपर होते हैं।
पहला पेपर जीएस(GS) का होता है अर्थात जनरल स्टडीज(General study) का जो कि 100 क्वेश्चन होते हैं 200 अंक के जिसको हल करने के लिए समय सीमा 2 घंटा तय किया गया है , इसमें नेगेटिव मार्किंग (negative marking ) भी है जो कि प्रत्येक गलत उत्तर पर 1/3 अंक काट लिए  जाते हैं। तथा दूसरा CCAT अर्थात एप्टिट्यूड टेस्ट रहता है, दूसरे पेपर भी 200 अंक के होते हैं जिसमें 80 प्रश्न पूछे जाते हैं और 2 घंटे का समय अंतराल दिया जाता है इस पेपर का भी नेगेटिव मार्किंग पेपर पहला जैसा ही है।  upsc syllabus

मेंस के एग्जाम में 9 पेपर होते हैं।

UPSC के अंतर्गत आने वाले सर्विसेज, upsc syllabus

UPSC के अंदर कई सारे सर्विस आते हैं जो इस प्रकार है –
IAS, IPS, IFS, IRS, IES, ESE, CDS, NDA इत्यादि सर्विसेज आते हैं।

full Form of IAS – Indian Administrative Service, full Form of – Indian Police Service

IPS, upsc syllabus

IAS, IPS और IRS में अंतर

IAS IPS और IRS गवर्नमेंट द्वारा दी जाने वाली सुविधा इस प्रकार है।
भारत में IAS और IPS को सरकार द्वारा लगभग बराबर सुविधा दी जाती है, जबकि IRS को मिलने वाली सुविधा थोड़ी अलग होती है।
1. IAS और IPS को किसी काम के लिए जिला भेजने पर बांग्ला तथा सर्वेंट दिया जाता है जबकि IRS को एक फ्लैट बिना सर्वेंट का दिया जाता है।
2. IAS और IPS को काम करने के लिए दो गाड़ियां दी जाती है, जबकि IRS को एक गाड़ी।
3. IAS और IPS का प्रमोशन समान समय अंतराल पर होता है, जबकि IRS का 3 प्रमोशन तो समान समय अंतराल रहता है उसके बाद थोड़ी देरी से प्रमोशन होता है।
4. IAS और IPS को कई बार और कहीं भी ट्रांसफर किया जा सकता है लेकिन एक IRS का ट्रांसफर थोड़ी मुश्किल से होती है और कम से कम 4 साल के अंतराल पर होती है। एक आया रे स्कोर इमरजेंसी पड़ने पर साल में एक बार ही ट्रांसफर किया जा सकता है।
5. एक आया डेस्क अपनी पोस्टिंग अपने मन मुताबिक करने का चांस ज्यादा रहता है जबकि IAS और IPS का नहीं।
6. IAS और IPS का ड्यूटी टाइम 24 घंटा होता है जबकि IRS का ड्यूटी टाइम सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक रहता है। इमरजेंसी पढ़ने पर थोड़ा ज्यादा टाइम ड्यूटी कर सकते हैं।

IAS, IPS और IRS और का रुतबा और पावर

आप अपने जीवन में यह कल्पना कीजिए कि 10 साल बाद ही आप IAS IPS या IRS बन गए हैं तो सोचिए आप अपनी कोर्ट सूट वगैरा पहन के बाहर निकले हो और आपको सब सलामी कर रहा है। आप इतने प्रसिद्ध हो जाते हैं कि दिन भर में 500 से ज्यादा लोग आप को सलाम करेंगे। बड़े-बड़े कंपनी के मालिक और इंडस्ट्रीज आपको फोन करके अपनी सिफारिश करवाएंगे। जब आप सिनेमा देखने जाते हो तो सिनेमा हॉल के मालिक खुद आपसे मिलकर आपको सही से बिना टिकट का बैठाएंगे। ऐसी पावर होती है IAS, IPS और IRS की नौकरी में। इन नौकरी में बहुत सारा इज्जत, रुतबा और वैल्यू होता है।

हम रोजाना ऐसे ही जानकारी newindiascheme.com के द्वारा आपके लिए लाते रहेंगे । इसके लिए हमारे website को follow करे , ताकि हमारे द्वारा new updates आपको सबसे पहले मिले । 

Thank you for reading this post…

posted by – Rohit kumar 

 crush meaning in Hindi, आमतौर पर इस्तेमाल होने वाले सब्द का मीनिंग और फुल फॉर्म, Urban का हिंदी अर्थ ‘सहरी’, full form of LOL

भारत की शिक्षा व्यवस्था | Coaching का धंधा, tuition Industry | इंटरनेट से शिक्षा | Online Study | What is Success ?

IPL (Indian premier League), पूरी जानकारी | आईपीएल के 14वें सीजन 2021 Schedule | IPL live अपने मोबाइल में free में कैसे देखें 

कौन-कौन UPSC का एग्जाम दे सकते हैं ?

1. इस एक्जाम में बैठने के लिए आपकी उम्र 21 साल से 32 (OBC- 35, SC, ST- 37 साल तक) साल के बीच होनी चाहिए।
2. UPSC एग्जाम देने के लिए कम से कम ग्रेजुएशन पास होनी चाहिए।

UPSC का exam कितनी बार दे सकते हैं?

UPSC का एग्जाम सभी को हर साल देने की अनुमति नहीं है।
जनरल कैटेगरी वाले 6 बार एग्जाम दे सकते हैं,
ओबीसी कैटेगरी वाले 9 बार,
तथा sc-st कैटेगरी वाले एज लिमिट तक दे सकते हैं।
अगर आप UPSC एग्जाम का फॉर्म भर चुके हैं और किसी कारण से उस एग्जाम को नहीं दे पाए तो यह आप के चांस में गिनती नहीं होगी।

One thought on “UPSC exam क्या है? कितनी बार exam दे सकते हैं? IAS, IPS एवं IRS का रुतबा और पावर | UPSC exam Syllabus”
  1. Keep this document ready to take advantage of reservation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *