Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 3.0

सबसे पहले यह जानते है कि आत्मनिर्भर भारत के अवसर और चुनौतियां क्या है?
पिछले कई साल से करोना वायरस महामारी से पूरी दुनिया परेशान है। अब तक पूरी दुनिया में लोगों की जिंदगी सही से पटरी पर नहीं लौटी है अभी भी बहुत सारे लोग बहुत ही परेशान रहते हैं। और ना ही देशों के बीच वस्तुओं का आवाजाही सामान्य नहीं हुआ है। तकरीबन सभी देश आर्थिक रूप से बेरोजगारी हो गई है। इन सभी हालातों में यह तो साफ साफ पता चल गया है कि corona महामारी से पहले की दुनिया और कोरोना महामारी के बाद की दुनिया काफी अलग हो गई है।

Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 2022

कोरोना महामारी के बाद हमारे देश में होने वाले बदलाव को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आत्मनिर्भर भारत अभियान की घोषणा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना संकट ने हमलोगो को local manufacturing supply chain का महत्व समझाया है।
Local सिर्फ जरूरत नहीं हम सबकी जिम्मेदारी है। इसीलिए अब हमें लोगों को local को अपना जीवन मंत्र बनाना होगा।
उन्होंने Vocal और local का नारा देते हुए लोगों को लोकल प्रोडक्ट खरीदने और उसका प्रचार करने के लिए के लिए भी प्रेरित किया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत निर्माण के लिए 20 लाख करोड़ का विशेष आर्थिक पैकेज भी दिए थे।
इस पैकेज में 4L यानी कि land , labour , liquidity , Law पर फोकस करते हुए कई अहम आर्थिक सुधारों की शुरुआत की गई है।

आत्मनिर्भर भारत के मायने क्या है?

वैश्वीकरण के इस युद्ध में सभी देश आपस में जुड़े हुए हैं। ऐसे में आत्मनिर्भरता की भी परिभाषा बदल गई है। आत्मनिर्भरता (Self – Reliance) और आत्म केंद्रित ( self – Centered ) से अलग है।
आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में वैश्वीकरण का बहिष्कार नहीं किया जाएगा। बल्कि दुनिया के विकास में मदद किया जाएगा।
इसीलिए आत्मनिर्भर भारत के मतलब दुनिया से जुड़े रहते हुए भी आर्थिक विकास के साथ-साथ लोगों की लोगों के जीवन की गुणवत्ता को बेहतर करना है।

Atmanirbhar Bharat Abhiyaan के उद्देश्य क्या है?

आत्मनिर्भर भारत का उद्देश्य केवल कोविड-19 महामारी से लड़ना ही नहीं है, बल्कि भविष्य में भारत का पुनर्निर्माण भी करना है। ताकि भारत अपने घरेलू मांग को पूरा कर सके और अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए सक्षम बन कर आगे बढ़ सके।

आत्मनिर्भर भारत की रणनीति

  • सरकार ने land, labour, liquidity, law पर फोकस किया है ।
  • Land – land यानि की जमीन के बिना किसी भी उद्योग की स्थापना नहीं की जा सकती हैं।
  • Labour – ऐसे ही लेबर के बिना भी कोई भी उद्योग या उत्पादन की कल्पना नहीं की जा सकती है।
  • Liquidity – आर्थिक गतिविधियों को चलाने के लिए भी लिक्विडिटी का होना बेहद जरूरी होता है।
  • Law – देश में कई ऐसे जटिल कानून हैं जिसके विकास में रुकावट खड़ी हो जाती है। इसीलिए आत्मनिर्भरता का रास्ता साफ करने के लिए कानून में बड़े बदलाव किए गए।

आत्मनिर्भर भारत के पांच स्तंभ है।

  1.  Economy – ऐसी अर्थव्यवस्था जो विधि सील परिवर्तन की जगह पर बड़ी उछाल पर आधारित हो।
  2.  Infrastructure – ऐसी असंरचना जो आधुनिक भारत की पहचान बने।
  3.  Technology – प्रौद्योगिक संचालित व्यवस्था पर आधारित प्रणाली।
  4.  Vibrant Demography – गतिशील जनसांख्यिकी जो आत्मनिर्भर भारत के लिए ऊर्जा का स्रोत है।
  5.  Demand – इसके लिए भारत की मांग और आपूर्ति श्रृंखला के पताका पूरी क्षमता का उपयोग किए जाने का रखा गया है। इसके लिए सरकार ने प्राथमिक द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्र के लिए कई बड़े आर्थिक सुधारों की घोषणा की है।

अब हम जानेंगे कि आत्मनिर्भर अभियान 3.O क्या है?

हमारे देश में ही नहीं पूरे विश्व में ही कोविड-19 के कारण बहुत ही ज्यादा नुकसान हुआ है। और इसी नुकसान से बाहर निकलने के लिए सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की थी। आत्मनिर्भर भारत अभियान के 2 फेज लॉन्च हो चुके हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.O ये इस अभियान का तीसरा फेज है ।
यह अभियान में नहीं सिर्फ नौकरीपेशा का है, यह अभियान नौकरी से लेकर व्यवसाय तक के सभी लोगों को कवर किया जाएगा। अभियान के अंदर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा ताकि किसी भी लोगों को आर्थिक समस्या नहीं हो , आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े।

Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 3.O के अंतर्गत 12 योजनाओं को लांच किया गया है।

  1.  पीएम गरीब कल्याण योजना
    प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत अभी तक कुल 37543 करोड़ रुपए खर्च किए गए है। अब 10 हजार करोड़ रुपए मंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत खर्च किए जाएंगे। ताकि देश के सभी नागरिकों तक रोजगार पहुंचे और गांव के भी अर्थव्यवस्था आगे बढ़े। पीएम गरीब कल्याण योजना के माध्यम से प्रणाली में भी पारदर्शिता होगी और बेरोजगारी में भी कमी होगी।
  2.  घर बनाने और घर खरीदने वालों के लिए इनकम टैक्स रिफिल
  3.  कोविड-19 वैक्सीन के शोध तथा विकास
    कोविड सुरक्षा mission for research तथा development of Indian covid vaccine के लिए 900 करोड़ रुपए की राशि दी जाएगी। जैव प्रौद्योगिक विभाग को यह सुविधा दिया जाएगा।
  4.  Boost for project experts
    इस project experts में railway , transmission Road , transport etc. प्रोजेक्ट को शामिल किया गया है।
  5.  आत्मनिर्भर manufacturing production production linked incentive scheme (आत्मनिर्भर मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम)
    प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम को उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया है। और इसके अंतर्गत घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा दिया जाएगा। जिससे कि देश के निर्यात बढ़े और आयात को कम किया जा सके। इसके अंतर्गत 2 लाख करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है अगले 5 सालों तक के लिए।
  6. आत्मनिर्भर मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्शन योजना के अंतर्गत 10 नए सेक्टर को जोड़ा गया है ताकि economy को आगे बढ़ाया जा सके।
    इसके अंतर्गत advanced chemical cell battery, electronic and Technology products, automobile and auto components, telecom and networking products, food products, solar PV module, white goods, फार्मास्यूटिकल ड्रग्स, टेक्सटाइल उत्पादन शामिल है।
  7.  Agriculture subsidy fertilizer
    आप सभी लोगों को पता ही होगा कि खेत में पानी के बाद सबसे ज्यादा फर्टिलाइजर की जरूरत होती है। हर साल फर्टिलाइजर का इस्तेमाल बढ़ता ही जा रहा है। और इसीलिए सरकार 65000 करोड रूपए फर्टिलाइजर सब्सिडी देंगे, और जिससे कि हमारे देश में जितने भी किसान हैं उनको फर्टिलाइजर की कमी ना हो।
  8.  आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना।
  9.  इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम।
  10.  प्रधानमंत्री आवास योजना।
  11.  कंस्ट्रक्शन तथा इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की सहायता।
  12.  Capital and industrial

Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 1.O के अंतर्गत लांच की गई योजना।

  1.  Liquidity injection for Discoms
  2.  partial credit guarantee scheme 2.O
  3.  Special Liquidity scheme for NBFCs
  4.  Emergency working capital funding for farmers through NABARD
  5.  ECLGS 1.O
  6.  Pradhan mantri Matsya Sampada yojana
  7.  Kisan Credit card Scheme
  8.  PM Savanidhi yojana
  9.  One National one Ration card

Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 2.O के अंतर्गत लांच की गई योजनाएं।

  1.  LTC cash voucher scheme
  2.  Festival advance
  3.  Partial credit guarantee scheme
  4.  Additional capital Expenditure

कौन सब लोग आत्मनिर्भर भारत अभियान का लाभ ले सकते हैं?

  • असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोग
  • संगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोग
  • मिडिल क्लास इंडस्ट्री , मछुआरा , पशु पालक , लघु उद्योग , गरीब लोग , मजदूर किसान वर्ग के लोगो लाभ ले सकते हैं।

आत्मनिर्भार भारत अभियान 3.O का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

  •  सबसे पहले आपको आत्मनिर्भर भारत अभियान के वेबसाइट पर जाना होगा।
  •  वेबसाइट पर जाने के बाद होम पेज खुल कर जाएगा।
  •  उसके बाद होम पेज पर रजिस्टर के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  •  क्लिक करने के बाद रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जायेगा।
  •  रजिस्ट्रेशन फॉर्म में आपको name , mobile number , date of birth , gender , email , country उसके बाद आपको create new account पर क्लिक करना है।
  •  क्लिक करने के बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी जाएगा वहां पर आपको और ओटीपी भर देना है।
  • उसके बाद आप का verification हो जाएगा।
    आप जो ईमेल आईडी दिए हैं आपके उस ईमेल आईडी पर आपका यूजर नेम और पासवर्ड आ जायेगा।
  •  इसी प्रकार आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाएगा।

If you liked this information then like it and share it…

Thank you for reading this article till the end…

Posted by ROHIT KUMAR

FAQ

आत्मनिर्भर अभियान 3.O क्या है?

हमारे देश में ही नहीं पूरे विश्व में ही कोविड-19 के कारण बहुत ही ज्यादा नुकसान हुआ है। और इसी नुकसान से बाहर निकलने के लिए सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की थी। आत्मनिर्भर भारत अभियान के 2 फेज लॉन्च हो चुके हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.O ये इस अभियान का तीसरा फेज है ।
यह अभियान में नहीं सिर्फ नौकरीपेशा का है, यह अभियान नौकरी से लेकर व्यवसाय तक के सभी लोगों को कवर किया जाएगा। अभियान के अंदर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा ताकि किसी भी लोगों को आर्थिक समस्या नहीं हो , आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़े।

One thought on “Atmanirbhar Bharat Abhiyaan 3.0, आत्मनिर्भर अभियान क्या है? Update 2022”

Leave a Reply

Your email address will not be published.