Mission Vatsalya Yojana, mission vatsalya which state, mission vatsalya staff salary, guidelines, MINISTRY OF WOMEN & CHILD DEVELOPMENT

दोस्तों आप लोगो को तो पता ही होगा कि महिला बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार (ministry of women and child development Government of India) के द्वारा child protection services का नाम बदल कर mission vatsale कर दिया गया है।
इससे पहले इस योजना का नाम Integrated Child Protection Scheme (ICPS) था उसके बाद इस योजना का नाम Child Protection services (CPS) कर दिया गया, अब इस योजना का नाम बदल कर mission Vatsalya Yojana रख दिया गया है। आपको बता दें कि हाल ही में भारत सरकार के द्वारा एक आयोजित बैठक में चाइल्ड प्रोटेक्शन सर्विसेस (child Protection services) के मिशन को मिशन वात्सल्य के अंतर्गत 1 अप्रैल 2022 से लागू करने के बारे में जानकारी दी गई है। हम आपको मिशन बात कर ले योजना से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी देंगे और मिशन वात्सल्य की नई गाइडलाइंस के बारे में सभी जानकारी देंगे।

mission vatsalya

Mission Vatsalya Yojana क्या है?

Child Protection services को बेहतर और अच्छे प्रभावी ढंग से संचालन करने के लिए नाम बदलकर मिशन वात्सल्य योजना रखा गया है और इसमें कई तरह की चीजों को जोड़ा गया है जिससे कि बच्चों को सुरक्षा मिल सके।
केंद्रीय महिला वात्सल्य योजना को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के द्वारा शुरू किया गया है। मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत भारत के सभी बच्चे को एक स्वस्थ एवं खुशहाल बचपन सुनिश्चित करना है। इस योजना के अंतर्गत बच्चों को हर क्षेत्र में विकास के लिए सहायता प्रदान किया जाता है। मिशन वात्सल्य योजना का बजट साल 2022 – 23 में 900 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 1450 करोड़ रुपए कर दिया गया है।

इस योजना में वात्सल्य का अर्थ होता है प्रेम होता है। आजकल हमारे देश में महिलाएं अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग नहीं करवाती है क्योंकि वह ऐसा सोचती है जो इससे हमारा शरीर का फिगर खराब हो जाएगा जिस कारण से उनका बच्चा कुपोषित ही रह जाता है। और बच्चे कुपोषण शिकार हो जाते हैं। इसी सब समस्याओं को सरकार नजर रखते हुए इस योजना की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से बच्चे भी कुपोषित नहीं होंगे और उनकी माताओं को भी प्रोत्साहित किया जाएगा। क्योंकि 6 महीने तक माता का दूध पीना बच्चों के लिए अनिवार्य होता है क्योंकि मां के दूध में अनेक प्रकार के पोषण पाए जाते हैं मिनरल्स पाए जाते हैं जो बच्चे के स्वास्थ्य के लिए काफी ज्यादा लाभदायक होता है। और इससे बच्चा का शरीर भी विरोध करता है और इसके साथ-साथ मानसिक विकास भी विकसित होता है। अगर किसी बच्चे को मां के दूध से वंचित कर दिया जाए तो उस बच्चे का मस्तिष्क का पूर्ण विकास नहीं हो पाएगा और वह बच्चा एक कुपोषित बच्चा कहलायेगा। इस योजना का नाम वात्सल्य अमृत कोष भी है।

मिशन वात्सल्य योजना को शुरू क्यों किया गया?

मिशन वात्सल योजना को इसीलिए शुरू किया गया क्योंकि आप सभी लोगों को जानते ही हैं कि हर माता-पिता का सपना होता है वह चाहते हैं कि मेरा एक बेटा बेटी हो और वह भी बिल्कुल स्वस्थ हो, जो कि हमारे बुढ़ापे का सहारा बन सके लेकिन परंतु कई लेकिन कई बार कुछ ऐसी परिस्थितियां आ जाती है जिस कारण से उनके बच्चे की मृत्यु हो जाती है और ऐसी परिस्थितियां तब होता है जब उनके बच्चे को सही तरह से पोषण नहीं मिल पाता है और सही से पोषण नहीं मिलने का सबसे मुख्य कारण है बच्चा के माता को ही सही पोषण नहीं मिलना। मां को ही सही पोषण नहीं मिलेगा तब वह अपने बच्चे को स्तनपान कैसे करवाए समस्याओं को देखते हुए सरकार ने मिशन वात्सल्य योजना की शुरुआत की। खोजना के अंतर्गत कई मिल्क बैंक की स्थापना की जाएगी जिससे कि बच्चे को दूध की कमी ना हो सके और इस योजना के माध्यम से बच्चा की मृत्यु दर में भी कमी आएगी।

Benefits and guidelines of mission Vatsalya Yojana

  • मिशन वात्सल्य योजना को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा 2022 वहीं से चालू करने की घोषणा की गई।
  • मिशन वात्सल्य योजना का सारा कार्य भार स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के द्वारा ही संभाला जाएगा।
  • मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत नई दिल्ली में नेशनल हुमन मिल्क बैंक (national Human milk Bank) की स्थापना भी कर दी गई है।
  • इस योजना के माध्यम से बच्चे की मृत्यु दर में भी कमी आएगी।
  • इस योजना का बजट 900 करोड रुपए से बढ़ाकर 1450 करोड़ रुपए कर दिया गया है।
  • मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत महिलाओं को स्तनपान कराने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत एक स्तनपान परामर्श केंद्र का भी गठन किया गया है।
  • मिशन वात्सल्य योजना में बच्चें और महिलाओं के स्वास्थ्य भी बेहतर होगा।

अब मिशन वात्सल्य योजना का उद्देश्य जान लेते हैं?

  1. कोई महिला महिला किसी कारण से अपने बच्चे को दूध नहीं पिला पाती है बच्चे को दूध पिलाने में और असक्षम होती है। उन बच्चों के लिए मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत राष्ट्रीय मानव दूध बैंक स्थापित किया गया है। फिर वहां जाकर अपने बच्चे को दूध पिला सकती है क्योंकि मां के दूध में प्रोटीन, विटामिंस और सूक्ष्म पोषक तत्व का से ज्यादा मात्रा में मिलता है और यह बच्चों के विकास में भी सहायता करती है।
  2. मिशन वात्सल्य योजना का उद्देश्य यही है कि बच्चे की मृत्यु दर को कम किया जा सके क्योंकि हमारे भारत देश में वर्तमान में एक हजार बच्चे जन्म लेते हैं तो उसमें से लगभग 67 बच्चे की असमय ही मृत्यु हो जाती है। बच्चे की मृत्यु का कारण होता है कि बच्चे को सही समय पर दूध नहीं मिल पाता है। बहुत सारी माय तो ऐसी होती है जो अपने बच्चे को दूध पिलाने से घबराती है क्योंकि उनका शरीर खराब ना हो जाए। बहुत सारे सर्वे में पाया गया है कि जो मां अपने बच्चे को स्तनपान कराती है उन माताओं की उम्र अब महिलाओं के उम्र से अधिक होती है और उनको कोई भी बीमारी नहीं होता है।

Mission Vatsalya Yojana के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन कैसे किया जाता है?

आप लोगों को बता दें कि रजिस्ट्रेशन के बारे में अभी सरकार के द्वारा कोई भी जानकारी नहीं दी गई है इसीलिए हम आपको इस पोस्ट में मिशन कौशल योजना के अंतर्गत कैसे अप्लाई किया जाता है इसकी जानकारी नहीं दे पाएंगे। और जैसे ही ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए ऑफिशियल वेबसाइट को जारी किया जाएगा तो फिर हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से सभी जानकारी देंगे।

Related Words, mission vatsalya which state guidelines, staff salary, mission vatsalya which state guidelines, staff salary, mission vatsalya which state guidelines, staff salary, mission vatsalya which state guidelines, staff salary, mission vatsalya which state guidelines, staff salary, mission vatsalya which state

हम रोजाना ऐसे ही जानकारी newindiascheme.com के द्वारा आपके लिए लाते रहेंगे । इसके लिए हमारे website को follow करे , ताकि हमारे द्वारा new updates आपको सबसे पहले मिले ।

Thank you for reading this post

Posted By – Rohit Kumar

Also Read

Mission Vatsalya Yojana क्या है?

Child Protection services को बेहतर और अच्छे प्रभावी ढंग से संचालन करने के लिए नाम बदलकर Mission Vatsalya Yojana रखा गया है और इसमें कई तरह की चीजों को जोड़ा गया है जिससे कि बच्चों को सुरक्षा मिल सके।
केंद्रीय महिला वात्सल्य योजना को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के द्वारा शुरू किया गया है। मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत भारत के सभी बच्चे को एक स्वस्थ एवं खुशहाल बचपन सुनिश्चित करना है। इस योजना के अंतर्गत बच्चों को हर क्षेत्र में विकास के लिए सहायता प्रदान किया जाता है।

मिशन वात्सल्य योजना के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन कैसे किया जाता है?

आप लोगों को बता दें कि रजिस्ट्रेशन के बारे में अभी सरकार के द्वारा कोई भी जानकारी नहीं दी गई है इसीलिए हम आपको इस पोस्ट में मिशन कौशल योजना के अंतर्गत कैसे अप्लाई किया जाता है इसकी जानकारी नहीं दे पाएंगे। और जैसे ही ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए ऑफिशियल वेबसाइट को जारी किया जाएगा तो फिर हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से सभी जानकारी देंगे।

मिशन वात्सल्य योजना का हेल्पलाइन नंबर क्या है?

Mission Vatsalya Yojana का अभी कोई भी हेल्पलाइन नंबर जारी मही किया गया है|

मिशन वात्सल्य योजना का उद्देश्य क्या हैं?

Mission Vatsalya Yojana का उद्देश्य यही है कि बच्चे की मृत्यु दर को कम किया जा सके क्योंकि हमारे भारत देश में वर्तमान में एक हजार बच्चे जन्म लेते हैं तो उसमें से लगभग 67 बच्चे की असमय ही मृत्यु हो जाती है। बच्चे की मृत्यु का कारण होता है कि बच्चे को सही समय पर दूध नहीं मिल पाता है। बहुत सारी माय तो ऐसी होती है जो अपने बच्चे को दूध पिलाने से घबराती है क्योंकि उनका शरीर खराब ना हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.