Inter caste marriage scheme, Intercaste Love Marriage, Benefits of inter caste marriage scheme, Inter caste marriage scheme apply online , अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना, डॉक्टर सविताबेन अंबेडकर विवाह प्रोत्साहन योजना।

Rajasthan inter caste marriage scheme

राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना को डॉक्टर सविता अंबेडकर विवाह प्रोत्साहन योजना भी कहा जाता है।
राजस्थान सरकार ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के तरफ से अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना चलाई जाती है। प्रदेश की सरकार अंतर विवाह को बढ़ावा देने और जातियों में विवाह को लेकर हो रहे भेदभाव को खत्म करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है।
जैसा की आप सभी लोगों को पता ही होगा आजकल के लड़का और लड़की एक दूसरे से प्रेम कर बैठते हैं और प्रेम में नहीं जाती देखते हैं और ना ही धर्म देखते हैं। जब शादी की बात आती है तो उनके परिवार वाले शादी के लिए नहीं मानते हैं। लड़का और लड़की घर छोड़कर कहीं बाहर जा कर शादी कर लेते हैं, तो इन सब में उनको पैसों की बहुत ज्यादा समस्या होने लगती है। यही सब समस्या को देखते हुए राजस्थान की सरकार ने अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की। और अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने के लिए भी अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की गई हैं।
आज के समय में युवा और युक्ति Inter caste marriage कर रहे हैं। इसी वजह से कई बार विवाहित जोड़े को अपना घर भी छोड़ना पड़ता है। उन्हीं शादी करने के बाद कोई परेशानी हो इसीलिए राज्य सरकार ने इसे अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना को राज्य में शुरू किए।

intercaste marriage,  inter caste marriage list

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन राशि योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र भरने से पहले उम्मीदवार को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग राजस्थान की वेबसाइट पर registration करना होता है।
इस योजना के तहत अनुसूचित जाति के व्यक्ति के साथ अंतर जातीय विवाह से जुड़ने पर संबंधित युगल को 500000 रुपए की सहायता राशि दिया जाता है।
इसके अलावा उम्मीदवार चाहे तो e- मित्र केंद्र से भी अंतरजातीय विवाह लाभ प्रोत्साहन योजना (Intercaste Love Marriage) के लिए ऑनलाइन registration कर सकते है।
इंटर कास्ट मैरिज स्कीम राज्य सरकार ने विवाहित जोड़ों को 500000 रुपए का वित्तीय सहायता के रूप में देने का प्रावधान रखा है। जिसमें ₹2 लाख 50 हजार रुपये शादीशुदा जोड़े के ज्वाइंट अकाउंट में फिक्स डिपाजिट के रूप में जमा किए जाएंगे। और बाकी के 2.5 लाख रुपए उन्हें अपने वैवाहिक जीवन में दैनिक कार्यों के लिए दिए जाते है। इसके अलावा दंपत्ति जोरे इन पैसों का इस्तेमाल अपना नया घर बनाने के लिए भी कर सकता है ।

Name of scheme Inter Caste Marriage Scheme
विभाग का नाम सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण विभाग
योजना का दूसरा नाम डॉक्टर सविता वन अंबेडकर विवाह प्रोत्साहन योजना
राज्य का नाम राजस्थान
शुरू किया गया राजस्थान सरकार के द्वारा
योजना को लांच किया गया  2013 में
लाभार्थी अंतरजातीय विवाह करने वाले लोग
सहायता राशि  5 लाख रुपए
आवेदन ऑनलाइन
Official website Click Here
Our Website  Click Here 

Benefits of Rajasthan Inter Caste Marriage Scheme/ अंतरजातीय विवाह योजना के कुछ लाभ:-

  • अंतरजातीय विवाह करने से समाज में हो रहे जाति के भेदभाव को खत्म किया जा सकता है।
  • इस योजना के अंतर्गत समाज में हो रहे हो ऊंच-नीच के भेदभाव को खत्म किया जा सकता है।
  • राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत intercaste marriage करने वाले लोगों को राजस्थान सरकार के द्वारा 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि दी जाती है।
  • युवा युवती जो अंतरजातीय विवाह करके समाज को एक करने की कोशिश करते हैं।
  • उन्हें सुरक्षा देने और प्रोत्साहन के रूप में वित्तीय सहायता देने से समाज की इस कुरीति को खत्म करना है।
  • समाज में ऊंच-नीच के अंतर को भी खत्म करना है और समाज के लोगो के बीच एकता लाना है।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह योजना की योग्यता / intercaste marriage

  • राजस्थान इंटर कास्ट मैरिज योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए।
  • अनुसूचित वर्ग का युवक अथवा युवती, जिसने किसी वर्ण हिंदू लड़का अथवा लड़की से जो दोनों ही राजस्थान के मूल निवासी हैं।
  • लड़का और लरकी में से किसी का भी आयु 35 वर्ष से अधिक नहीं हो।
  • अंतरजातीय विवाह करने वाले लड़का और लड़की किसी भी आपराधिक मामले में नहीं होना चाहिए।
  • अंतरजातीय विवाह (intercaste marriage) करने वाले युगल विवाह के प्रमाण स्वरूप सक्षम प्राधिकरण अधिकारी कार्यालय से जारी विवाह प्रमाण पत्र होना चाहिए।
  • युगल की संयुक्त आय ढाई लाख रुपए वार्षिक से अधिक नहीं हो।

राजस्थान इंटर कास्ट मैरिज स्कीम में क्या सब जरूरी डाक्यूमेंट्स लगते हैं? intercaste marriage

  1. राजस्थान के अस्थाई निवासी प्रमाण पत्र
  2. विवाहित जोड़े का पासपोर्ट साइज फोटो
  3. विवाह प्रमाण पत्र
  4. जन्म प्रमाण पत्र
  5. आय प्रमाण पत्र
  6. जाति प्रमाण पत्र
  7. आधार कार्ड
  8. पैन कार्ड
  9. वोटर आईड

Rajasthan intercaste marriage scheme का ऑनलाइन आवेदन कैसे किया जाता है?

  • अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का आवेदन करने के लिए सबसे पहले इसके अधिकारी वेबसाइट पर जाना है।
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के बाद नेक्स्ट पेज पर आपको Redirect to SSO के पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद उसमें आपको लॉगइन करना है। मेरा पहले यूज़र है तो सबसे पहले आपको खुद का रजिस्टर करना होगा
  • इसके लिए आपको रजिस्टर के बटन पर क्लिक करना है।
  • जब आपका रजिस्टर हो जाएगा तो उसके बाद आपको अपने यूजर नेम और पासवर्ड के साथ लॉगिन करना है।
  • उसके बाद आपको एक लिस्ट दिखाई देगा उसमें आपको उसमे SJMS के पोर्टल पर क्लिक करना होगा।
  • नेक्स्ट पेज पर आपको राजस्थान अंतरजातीय प्रोत्साहन योजना (intercaste marriage) के लिंक पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद अप्लाई ऑनलाइन के बटन पर क्लिक करना और फिर आपके सामने आवेदन फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
  • फॉर्म  में जो भी जानकारी पूछी गई है सभी जानकारी सही-सही भर देना और उसके बाद save and next के बटन पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद डॉक्यूमेंट अटैच करने का ऑप्शन आएगा और उसमें आपको सभी अपने जरूरी डाक्यूमेंट्स को अपलोड करना है और साथ ही अपना फोटो भी अटैच करना है।
  • सभी जानकारी सही-सही भर देने के बाद सारे डाक्यूमेंट्स को अपलोड करने के बाद सबसे लास्ट में सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही फॉर्म सबमिट हो जाएगा आपके सामने एप्लीकेशन नंबर आ जाएगा उसे आप अच्छे से सेव करके रख लें।

Intercaste marriage scheme Rajasthan का उद्देश्य क्या है?

जैसा की आप सभी लोगों को पता ही होगा कि आज भी हमारे देश में जाति को लेकर कितना भेदभाव चलते रहता है। इसी भेदभाव को खत्म करने के लिए सभी राज्य के सरकार कुछ न कुछ योजनाएं चलाती है। और अब राजस्थान की सरकार ने राज्य में भी जाति का हो रहे भेदभाव को खत्म करने के लिए अंतरजातीय विवाह योजना की शुरुआत की।
विवाह प्रोत्साहन योजना के माध्यम से जाति में हो रहे भेदभाव को खत्म किया जाएगा। अंतरजातीय विवाह योजना (intercaste marriage) के माध्यम से विवाह करने वाले जोड़े को प्रोत्साहन राशि भी दिया जाएगा जिससे कि उनको शादी के बाद उनको कुछ मदद मिल सके।

हेल्पलाइन नंबर

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना (intercaste marriage) से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी दिए। अगर फिर भी आपको इस योजना से संबंधित कोई भी समस्याएं हो रही है तो आप इसके हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी समस्याओं को खत्म कर सकते हैं।
Helpline number 2014 12226 638 monday to Friday ( सुबह 9 बजे से sam 4:00 बजे )

inter caste marriage list, inter caste marriage list, inter caste marriage list, inter caste marriage list, inter caste marriage list, inter caste marriage list, inter caste marriage list

हम रोजाना ऐसे ही जानकारी newindiascheme.com के द्वारा आपके लिए लाते रहेंगे । इसके लिए हमारे website को follow करे , ताकि हमारे द्वारा new updates आपको सबसे पहले मिले ।

Thank you for reading this post…

Posted By – Rohit kumar

Also Read

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुआत क्यों किया गया? intercaste marriage

आजकल के लड़का और लड़की एक दूसरे से प्रेम कर बैठते हैं और प्रेम में नहीं जाती देखते हैं और ना ही धर्म देखते हैं। जब शादी की बात आती है तो उनके परिवार वाले शादी के लिए नहीं मानते हैं। लड़का और लड़की घर छोड़कर कहीं बाहर जा कर शादी कर लेते हैं, तो इन सब में उनको पैसों की बहुत ज्यादा समस्या होने लगती है। यही सब समस्या को देखते हुए राजस्थान की सरकार ने अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की।

Intercaste marriage scheme Rajasthan का उद्देश्य क्या है?

जैसा की आप सभी लोगों को पता ही होगा कि आज भी हमारे देश में जाति को लेकर कितना भेदभाव चलते रहता है। इसी भेदभाव को खत्म करने के लिए सभी राज्य के सरकार कुछ न कुछ योजनाएं चलाती है। और अब राजस्थान की सरकार ने राज्य में भी जाति का हो रहे भेदभाव को खत्म करने के लिए अंतरजातीय विवाह योजना की शुरुआत की।
विवाह प्रोत्साहन योजना के माध्यम से जाति में हो रहे भेदभाव को खत्म किया जाएगा।

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का दूसरा नाम क्या है?

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का दूसरा नाम डॉक्टर सविता वन अंबेडकर विवाह प्रोत्साहन योजना है, intercaste marriage

Leave a Reply

Your email address will not be published.